भोले की जयकार से गूंजी तीर्थनगरी

ऋषिकेश :

नीलकंठ यात्रा मार्ग ही नहीं बल्कि तीर्थनगरी व आसपास का क्षेत्र रविवार को बम-बम भोले के उद्घोष से गूंजायमान हो उठा। पैदल कांवड़ की जगह डाक व दोपहिया सवार कांवड़ की भारी आमद से ऋषिकेश, लक्ष्मण झूला व मुनिकीरेती पुलिस जूझती रही। रविवार की देर रात तक 46 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने नीलकंठ महादेव मंदिर में जलाभिषेक किया।

श्रावण मास की नीलकंठ यात्रा में श्रद्धालुओं का उत्साह बरकरार है। बीते रोज तक पैदल कांवड़ की आमद ज्यादा थी। मगर अब डाक कांवड़ की भारी आमद ने यातायात व्यवस्था प्रभावित रही। रविवार को दोपहिया व डाक कांवड़ वाहनों में कांवड़ियों की भारी आमद दर्ज की गई। हरिद्वार की दिशा से आने वाले कांवड़ियों को ऋषिकेश पुलिस आइडीपीएल कैनाल गेट से बैराज की ओर डायवर्ट कर रही थी। बैराज पुल पार थाना लक्ष्मण झूला पुलिस पर दोहरा दबाव था। ऋषिकेश की ओर से ही नहीं बल्कि वाया चीला आने वाले दोपहिया सवार कांवड़ियों को नियंत्रित करने में लक्ष्मण झूला पुलिस के पसीने छूट गए। दोपहर में वायरलेस से संदेश आया कि हरिद्वार चंडी घाट में काफी भीड़ उमड़ गई है जिस कारण हरिद्वार की ओर जाने वाले डाक कांवड़ वाहनों को पुलिस ने वाया कोटद्वार व नजीबाबाद मार्ग की ओर डायवर्ट कर दिया। ट्रैफिक प्लान के मुताबिक बैराज से वाहनों की रवानगी और वाया गरुड़चट्टी पुल होते हुए तपोवन बाईपास ढालवाला व श्यामपुर बाईपास से इन वाहनों की वापसी का रूट तय था। दोपहिया सवार कांवड़िये मुनिकीरेती में शार्टकट अपनाकर जब प्रवेश करने लगे तो पुलिस ने चंद्रभागा पुल से इन कांवड़ियों के बस अड्डा होते हुए नटराज चौक की ओर रवाना किया। नीलकंठ में भी पूरे दिन श्रद्धालुओं की आमद बनी रही। लक्ष्मण झूला पुलिस के मुताबिक रात्रि आठ बजे तक 46270 श्रद्धालु नीलकंठ महादेव मंदिर में जलाभिषेक कर चुके थे। सोमवार को हमेशा की तरह कांवड़िये पुरा महादेव मेरठ में जलाभिषेक करेंगे। जिस कारण इस दिन डाक कांवड़ और दोपहिया की संख्या घट जाएगी और आसपास जनपदों के श्रद्धालुओं की आमद यहां शुरू हो जाएगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY