मायावती ने केंद्र पर जमकर बोला हमला, कहा CBI का दिखाया डर

mayनई दिल्ली। राज्यसभा में आरक्षण पर बहस के दौरान बहुजन समाज पार्टी सुप्रीमो मायावती ने केंद्र सरकार पर जमकर हमला बोला। मायावती ने खुद को फंसाए जाने को लेकर मौजूदा बीजेपी सरकार के साथ पूर्व की कांग्रेस सरकार को भी घेरा।

मायावती ने कहा कि मुझ पर बीजेपी ने बहुत दबाव डाला कि हिंदुवादी तरीके से सरकार चलाया जाए और कहा कि अगर मैंने ऐसा नहीं किया तो अच्छा नहीं होगा। मुझे धमकियां मिलने लगीं, लेकिन मैंने संविधान का सम्मान रखा। माया ने कहा कि सीबीआई का दुरूपयोग करके बीजेपी और कांग्रेस दोनों ने मुझे फंसाया। इस बार भी बीजेपी वही हथकंडा अपना रही है, लेकिन उसे मुंह की खानी पड़ेगी, ऐसा मेरा सरकार को चैलेंज है।

संविधान को लेकर मायावती ने कहा कि इस समय देश की वर्तमान परिस्थितियों को ध्यान में रखकर कहूंगी कि अपने देश में विभिन्नता में एकता देखने को मिलती है, धर्म को अपनाने के मामले में अपने देश के संविधान की खास विशेषता है। बाबा साहेब के संविधान की बातों को केंद्र और राज्यों की सरकारें बराबर काम कर रही है या नहीं, इसकी चिंता है।

आरक्षण विवाद पर मायावती ने कहा कि बीजेपी उंची जाति के लोगों को आर्थिक आधार पर आरक्षण देने के पक्ष में हैं। अभी कुछ दिन पहले RSS ने यहां तक कह दिया के आरक्षण में संशोधन की ज़रूरत है। इसके ज़बरदस्त विरोध की वजह से ये खामोश हो गए। अगर सरकार ने ऐसा किया तो मैं खुद सड़कों पर उतर कर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दूंगी।

मायावती ने कहा कि कभी भी कांग्रेस और बीजेपी ने आरक्षण का कोटा पूरा नहीं किया, कांग्रेस की सरकार ने पदोन्नति में आरक्षण को खत्म नहीं किया, लेकिन कुछ ऐसे फैसले हुए कि उस पर अंकुश लग गया। केंद्र की वर्तमान सरकार ने निजी सेक्टर में आरक्षण की सुविधा दिए बिना बड़े फैसले लिए। आरक्षण की आड़ में बड़े उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाया जा रहा है।

केंद्र पर हमला करते हुए मायावती ने कहा कि ये सरकार खासतौर पर दलितों की सुरक्षा को लेकर गंभीर नहीं है। वीके सिंह का बयान कि किसी कुत्ते को पत्थर लगे तो सरकार इसके लिए ज़िम्मेदार नहीं है, एक शर्मनाक ब्यान है। ऐसे लोगों की जगह संसद में नहीं जेल में होनी चाहिए।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY