राहुल का आरोप संघ कार्यकर्ताओं ने मंदिर में प्रवेश करने से रोका

rahul-gandhiनई दिल्ली राहुल गांधी ने दावा किया कि असम के उनके हालिया दौरे में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं ने उन्हें बरपेटा के एक मंदिर में प्रवेश करने से रोक दिया। उन्होंने कहा कि यह राजनीति करने की भाजपा की शैली है जो कि ‘‘अस्वीकार्य’’ है। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कोल्लम में  एक समारोह में केरल के मुख्यमंत्री ओमन चांडी को आमंत्रित नहीं किए जाने को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी आलोचना की और कहा कि उन्होंने राज्य के लोगों का ‘‘अपमान’’ किया है।

उन्होंने कहा कि वह तीन मामलों को उठाना चाहते हैं। राहुल ने पंजाब में कानून व्यवस्था की स्थिति पर संसद के बाहर कांग्रेस के प्रदर्शन में भाग लेते समय संवाददाताओं से यह बात कही। राहुल ने कहा, ”मैं जब असम गया था, तो मैं बरपेटा जिले के एक मंदिर में जाना चाहता था लेकिन मंदिर में संघ के लोगों ने मुझे मंदिर में प्रवेश करने से रोक दिया।’’ उन्होंने कहा, ”उन्होंने वहां मेरे सामने महिला को खड़ा किया और मुझसे कहा कि मैं मंदिर में प्रवेश नहीं कर सकता।’’ राहुल ने कहा, ”मुझे रोकने वाले वे कौन होते हैं?’’ गत शुक्रवार को बरपेटा गए राहुल ने कहा कि वह बाद में शाम को मंदिर गए जब संघ कार्यकर्ता उस जगह से चले गए थे।

बारपेटा की यात्रा करने वाले राहुल गांधी ने कहा कि वह बाद में शाम को फिर मंदिर गए तब तक आरएसएस कार्यकर्ता वहां से जा चुके थे। असम के मुख्यमंत्री तरूण गोगोई ने रविवार को आरोप लगाया था कि भाजपा और आएसएस ने बारपेटा में राहुल को प्रवेश नहीं करने देने की साजिश रची है।

चांडी के मुद्दे पर राहुल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री ने केरल के लोगों का अपमान किया है। उन्होंने दावा किया कि उन्होंने (पीएम) हमारे मुख्यमंत्री को समारोह में जाने से रोका। कांग्रेस उपाध्यक्ष ने कहा, ”केरल के मुख्यमंत्री राज्य के लोगों का प्रतिनिधित्व करते हैं। मुख्यमंत्री राज्य के लोगों की आवाज होते हैं और प्रधानमंत्री ने उस आवाज का अपमान किसा। यह हमें स्वीकार्य नहीं है।’’

उल्लेखनीय है कि इस बारे में पिछले सप्ताह उस समय विवाद उत्पन्न हो गया जब पिछड़े इझावा समुदाय के संगठन एसएनडीपी ने कोल्लम में पूर्व मुख्यमंत्री आर शंकर की प्रतिमा के अनावरण करने से संबंधित समारोह में शामिल होने वालों की सूची में चांडी का नाम नहीं शामिल किया था। इस समारोह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को शिरकत करनी है। चांडी ने प्रेस विज्ञप्ति में कहा है कि वह इससे काफी दुःखी हैं।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY