स्पोर्ट्स प्रीमियर लीग (एसपीएल) के समापन समारोह में पहुंचे क्रिकेटर युवराज सिंह, रवाईं-जौनसारी लोकगीतों पर लगाए ठुमके

उत्तरकाशी तहसील पुरोला क्षेत्र में कमल नदी के तट पर स्थित स्टेडियम में दो सप्ताह से चल रहे स्पोटर्स प्रीमियर लीग के समापन समारोह में सुप्रसिद्ध क्रिकेटर युवराज सिंह पहुंचे। वही सेल्फी और ऑटोग्राफ लेने की युवाओं में होड़ मच गई। उन्होंने रवाईं-जौनसारी लोकगीतों पर ठुमके भी लगाए। युवी ने अपने प्रशंसकों के बीच सवा दो घंटे का समय बिताया।

क्रिकेटर युवराज सिंह रविवार सुबह साढ़े 11 बजे करीब हेलीकॉफ्टर से कमल नदी के तट पर बने स्टेडियम में उतरे। स्वागत में स्थानीय लोगों ने युवराज को रवाईं की टोपी पहनाई। इसके बाद युवराज ने रोडू जाण मेरी अमिये हे….,छक्का लगाण मेरी अमिये….पर नृत्य किया। इस बीच, मंच से लेकर पंडाल तक युवी-युवी के नारे लगते रहे। कार्यक्रम में युवराज ने पुरोला के युवा क्रिकेटरों को सम्मानित किया।

क्रिकेटर युवराज सिंह ने पुरोला में इंसानियत का पाठ पढ़ाया। युवराज सिंह ने कहा कि मुझे इस कार्यक्रम का मुख्य अतिथि बनाया गया है। लेकिन, मैं भी आम लोगों की तरह हूं। कोई छोटा-बड़ा नहीं है। हर व्यक्ति पहले इंसान है। मेरे सबसे पहले कोच मेरे पिता थे और बाद में उन्होंने बिशन सिंह बेदी की देखरेख में भी अभ्यास किया। तब बेदी ने उनसे कहा था कि आप अच्छा क्रिकेटर बनना चाहते हो या अच्छा इंसान। तो मैंने उनसे अच्छा इंसान बनने की बात कही थी। अच्छा इंसान बनना आदमी के जीवन का सबसे बड़ा उद्देश्य होना चाहिए। आदमी अच्छा इंसान तब बनता है जब वह औरत की इज्जत करना सीखता है। इसलिए सभी महिलाओं की इज्जत और सम्मान करें।

NO COMMENTS