जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान ने सुदूवर्ती गावं का किया निरीक्षण ।

  • नीरज उत्तराखंडी 

पुरोला ।तहसील मोरी के अन्तर्गत प्राकृतिक आपदा के लिहाजा से संवेदनशील सुदूवर्ती गावं फिताड़ी व लिवाड़ी गांव जिलाधिकारी डा. आशीष चौहान ने स्थलीय निरीक्षण किया।
दो दिवसीय भ्रमण कार्यक्रमानुसार पहले दिन बुधवार को जिलाधिकारी डा0 चौहान देर सांय फिताड़ी गांव पंहुचे। ग्रामीणों ने पारंपारिक वाद्य यंत्रों एवं फूल मालाओं के साथ जिलाधिकारी का जोरदार स्वागत किया। अगले दिन सुबह जिलाधिकारी ग्रामीणों की दिनचर्या से रूबरू होते हुए सोमेश्वर मंदिर परिसर में ग्रामीणों की समस्याएं सुनीं।
चार वर्षीय बालिका प्रेणा पुत्री मेदर सिंह के आंख में मोतिया बिंद को देखकर जिलाधिकारी ने आरबीएस मद से ईलाज करने के निर्देश स्वास्थ्य विभाग को दिए। बरसात व बर्फवारी के दौरान  ग्रामीण महिलाएं रोशनी आदि ने घरेलू गैस संयोजन की मांग की जिस पर जिलाधिकारी ने उज्जवला गैस योजना से अधिक से अधिक ग्रामीणों को लाभान्वित करने के निर्देश पूर्ति विभाग को दिए। ग्रामीणों ने पीएमजीएसवाई के तहत निर्माणाधीन जखोल-फिताड़ी-लिवाड़ी मोटर मार्ग की खराब स्थिति व कार्यो में तेजी लाने व जांच की मांग की। जिस पर जिलाधिकारी ने सड़क की खराब स्थिति को देखते हुए उच्च स्तरीय जांच करने का भरोसा ग्रामीणों को दिया। अधिशासी अभियंता को निर्देश दिए कि सड़क को दुरुस्तू करते हुए वाहनों की आवाजाही हेतु सुचारू करना सुनिश्चित करें। ग्रामीणों ने बताया कि बरसात व बर्फवारी के दौरान जखोल खाद्यान्न भंडार से खाद्यान्न लाने में काफी कठिनाईयों का सामना करना पड़ता है इस हेतु 6 गावं के लिए खाद्यान्न भंडार फिताड़ी में बनाया जाए। जिस पर जिलाधिकारी ने खाद्यान्न भंडार हेतु शासन को प्रस्ताव भेजने का भरोसा दिया। ग्रामीणों ने बताया कि फिताड़ी गांव में बिजली की नई लाईन बिछाई गयी है लेकिन बिजली के खम्बों को मजबूत करने हेतु सीमेंट की जगह पत्थर भरे गए हैं। जिस पर जिलाधिकारी ने एसडीओ विद्युत को 15 दिन के भीतर बिजली के पोल को दुरूस्त करते हुए मजबूती प्रदान करने हेतु सीमेंट, कंक्रीट को डालने के निर्देश दिए। एक बृद्ध महिला लक्ष्मी ने युवाओं में बढ़ती नशे की प्रवृति पर रोक लगाने की मांग की। जिस पर जिलाधिकारी ने नारकोटिक्स व राजस्व पुलिस की संयुक्त टीम के साथ छापेमारी करवाने के भरोसा दिया। उसके उपरान्त जिलाधिकारी ने राजकीय जुनियर हाईस्कूल का निरीक्षण किया।

वहीं ग्रामीणों ने मांग पत्र सौंपते हुए टाटका से फिताड़ी तक ट्राली लगाने फिताड़ी में हैलीपैड को पक्का करने व अनुसूचित जाति बस्ती में खड़जा निर्माण,विश्राम गृह, भराड़सर ताल, देवक्यारा व मांजीवन के लिए ट्रेक मार्ग बनाने की मांग की गई।
वहीं फिताड़ी में ग्रामीणों की समस्याओं को सुनने के बाद दोपहर को जिलाधिकारी डा. चौहान आला अधिकारियों के साथ लिवाड़ी के लिए रवाना हुए। करीब 4 किमी. की खड़ी चढ़ाई चलकर लिवाड़ी गांव पंहुचकर जिलाधिकारी ने बहुउदेषीय शिविर में ग्रामीणों की समस्याएं सुनीं।

जिलाधिकारी ने लिवाड़ी गांव के लिए जाने वाला पैदल मार्ग की बदहाल स्थिति को देखते हुए 7 दिन के भीतर वन विभाग व खण्ड विकास अधिकारी को जिलाधिकारी कार्यालय में प्रस्ताव भेजने के निर्देश दिए। ताकि पैदल मार्ग को अगले 10 से 15 दिनों के भीतर बनाएं जा सकें। उन्होंने कहा कि पैदल मार्ग को मनरेगा से बनाएं जाए व कार्यदायी संस्था हेतु वन विभाग को रखा जाए, ताकि पैदल मार्ग को लेकर बीच में कोई अड़चन न आए। सुदूरवर्ती गांव की कनेक्टीविटी को ध्यान में रखते हुए जिलाधिकारी ने डीएसपीटी फोन लगाने के निर्देश आपदा प्रबन्धन को दिए। उन्होंने कहा कि डीएसपीटी फोन के लगने से गांव की कनेक्टीविटी भी जुड़ जाएगी तथा आपदा के दौरान में भी इसका उपयोग कर सकेगें। विद्युत विभाग को सौभाग्य योजनान्तर्गत गांव में 15 नवम्बर तक शत प्रतिशत विद्युत संयोजन कराने के निर्देष दिए।

शिविर में कुल 35 समस्याएं पंजीकृत हुयी जिसमें अधिकांश समस्याओं का मौके पर ही निस्तारण किया गया। ग्रामीणों ने बताया कि जुनियर हाईस्कूल लिवाड़ी में 50 छात्र है लेकिन शिक्षक नहीं हैं। जिस पर जिलाधिकारी ने तत्काल एक शिक्षक का सम्बद्धीकरण करने के निर्देश शिक्षा विभाग को दिए।

वहीं ग्रामीणों ने तिशिगचा में लगी हाईड्रोलिक ट्रॉली को रालाचौंरी में शिफ्ट करने व वागवानों ने घेरबाड़ कराने की मांग की।

शिविर में पशुपालन विभाग ने 24 पशुपालकों को दवाई वितरण की,समाज कल्याण विभाग ने 12 वृद्धा पेंशन स्वीकृत किए,ग्राम्य विकास विभाग ने 10 परिवार रजिस्टर की नकल व 6 मृत्यु प्रमाण पत्र जारी किए।

जिलाधिकारी श्री चौहान ने निर्देश दिए कि सुदूवर्ती गांव की जितनी भी समस्याएं प्राप्त हुयी है उन समस्याओं को प्राथमिता के तहत निस्तारण करना सुनिष्चित करें।

इस मौके पर जिलाधिकारी ने बुर्जुग महिलाओं को गर्म स्वेटर व कंबल, तथा बच्चों को स्वेटर चॉकलेट, टॉफी तथा विद्यालय को कूड़ेधान वितरीत की।
इस दौरान उप जिलाधिकारी पूरण सिंह राणा, डिप्टी सीवीओ डा. हिमांशु पाण्डेय, अधिशासी अभियंता लोनिवि धीरेन्द्र कुमार, सुभाष दौरियाल, समन्वयक आपदा शार्दुल गुसांई, प्रधान संगठन अध्यक्ष प्रहलाद सिंह, बलवीर सिंह राणा, रोजी सिंह सौंदाण, पूर्व प्रमुख शिव सिंह राणा, जगमोहन, जयमोहन, कृपाल सिंह, सुरेन्द्र सिंह,हाकम सिंह रावत , दुर्गेष्वर लाल, जगदीश रांगड़ सहित सैकड़ो ग्रामीण उपस्थित थे।

NO COMMENTS