इस तारीख से शुरू हो रहे हैं होलाष्टक, नहीं होंगे शुभ काम

फाल्गुन शुक्ल पक्ष अष्टमी तिथि से होलाष्टक शुरू हो रहे हैं। होलाष्टक 23 फरवरी से शुरू होंगे और होलिका दहन के साथ ही समाप्त हो जाएंगे। ऐसा कहा जाता है कि होलाष्टक के इन 8 दिनों में कोई भी शुभ काम नहीं किया जाता है। होलाष्टक के शाब्दिक अर्थ पर जाएं तो होला़अष्टक अर्थात होली से पूर्व के आठ दिन, जो दिन होता है, वह होलाष्टक कहलाता है।
इसलिए होलाष्टक शुरू होने से होलिका दहन तक सभी शुभ कामों को टाल देना चाहिए। ऐसा कहा जाता है कि अगर इन दिनों कोई शुभ काम इन दिनों किया जाता है तो उसमें बार-बार विघ्न आती है। इसलिए इस दौरान शादी, नामकरण संस्कार, ग्रह प्रवेश और भी मांगलिक कार्यों नहीं करने चाहिए।
होलाष्टक से तात्पर्य है कि होली के 8 दिन पूर्व धुलेंडी से आठ दिन पहले होलाष्टक की शुरुआत हो जाती है। ऐसा भी माना जाता है कि वैज्ञानिक एवं पौराणिक विवरण के अनुसार होली के आठ दिन पूर्व अर्थात फाल्गुन शुक्ल अष्टमी से प्रकृति में नकारात्मक ऊर्जा का प्रवेश हो जाता है। यह अवधि ही होलाष्टक है। इस दौरान शुभ कार्य नहीं किए जाते।

NO COMMENTS