कमाल का आम आदमी है केजरीवाल

0
200
giriraj
गिरिराज सिंह
कथित तौर पर केजरीवाल की तरफ से केस लड़ रहे जेठमलानी ने रिटेनरशीप के लिए एक करोड़ रुपए और उसके बाद प्रति सुनवाई 22 लाख रुपए फीस रखी थी। इस तरह उनकी कुल फीस 3.42 करोड़ रुपए हो गई।

वित्त मंत्री अरुण जेटली पर वित्तीय अनियमितता का आरोप लगाने वाले दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। दिल्ली सरकार द्वारा उपराज्यपाल को केस का बिल चुकाए जाने के लिए लिखे गए खत के सामने आने के बाद विपक्षी पार्टियों ने केजरीवाल और आम आदमी पार्टी के खिलाफ हमलें तेज कर दिए हैं। केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने ट्विटर पर केजरीवाल को आड़े हाथों लेते हुए लिखा- “कमाल का आदमी है ये तो. दिल्ली में, दिल्ली की जनता के पैसे पर इतनी मौज तो शायद मुगलों ने भी नहीं की होगी। सब मिलके केजरीवाल को प्रणाम कीजिए।”

कथित तौर पर केजरीवाल की तरफ से केस लड़ रहे जेठमलानी ने रिटेनरशीप के लिए एक करोड़ रुपए और उसके बाद प्रति सुनवाई 22 लाख रुपए फीस रखी थी। इस तरह उनकी कुल फीस 3.42 करोड़ रुपए हो गई। दिल्ली सरकार ने बिल का भुगतान करने के लिए उपराज्यपाल को खत लिखा है। इस मामला के सामने आने के बाद से केजरीवाल पर निशाना साधा जा रहा है। बीजेपी ने भी सीएम अरविंद केजरीवाल को आड़े हाथ लिया। बीजेपी के नेता प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि पहले कहते थे कि गाड़ी नहीं लेंगे, बंगला नहीं लेंगे, आप जनता पर वकील का बोझ डालकर उसे लूट रहे हैं। ये केस सीएम या सरकार पर नहीं है। ये निजी केस है, फीस भी उन्हें देनी चाहिए। जनता के पैसे की लूट कतई मंजूर नहीं है। इससे पहले दिल्ली बीजेपी के प्रवक्ता तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने केजरीवाल पर जनता के 4 करोड़ रुपए जेठमलानी को फीस के रूप में देने का आरोप लगाते हुए वह केजरीवाल से बहस के लिए तैयार हैं। गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी के नेताओं जेटली पर दिल्ली क्रिकेट अकादमी (डीडीसीए) के 13 साल तक अध्यक्ष रहने के दौरान वित्तीय अनियमितता का आरोप लगाया था। जिसको लेकर जेटली ने केजरीवाल से माफी मांगने के लिए कहा था, लेकिन वह इसके लिए तैयार नहीं हुए। जिसके बाद जेटली ने दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल समेत आप नेता राघव चड्ढा, कुमार विश्वास, आशुतोष, संजय सिंह और दीपक वाजपेयी पर 10 करोड़ रुपए मानहानि का केस दर्ज कराया था।

NO COMMENTS