रवांई लोक महोत्सव! 23-25 नवम्बर को नौगांव में होंगे यमुना घाटी की सांस्कृतिक विरासत के दीदार।

संजय चौहान

उत्तरकाशी, टिहरी और देहरादून के तीन जनपदों की साझा लोकसंस्कृति के दीदार एक जगह करने हो तो चले आइये उत्तरकाशी के नौंगाव में जहाँ पर आगामी 23-25 नवम्बर को रवांई लोक महोत्सव का भव्य आयोजन किया जा रहा है।

आगामी 23-25 नवम्बर को नौगांव (उत्तरकाशी) के इंटर कालेज में आयोजित होने वाला रंवाई लोक महोत्सव इस बार बेहद भव्य होने जा रहा है। जिसकी तैयारी जोरों पर है। जिसमें रवांल्टी, जौनपुरी, बंगाणी, जौनसारी लोकभाषा, सहित लोकसंस्कृति, लोकसाहित्य पर परिचर्चा, दस्तावेजीकरण और लोक कवि सम्मेलन आयोजित होगा। जबकि बीट्स ऑफ यमुना वैली के तहत एक वृहद्ध सांस्कृतिक समागम होगा। जिसमें एक साथ 40 से अधिक लोक कलाकार मंच पर 19 पहाड़ी लोकवाद्य यंत्रों की अद्भुभुत प्रस्तुति प्रस्तुति देंगे। कुल मिलाकर यह कहा जा सकता है कि रंवाई लोक महोत्सव सांस्कृतिक विरासत के संरक्षण, संबर्धन में मील का पत्थर साबित होगा। इस अवसर पर दौलतराम रवांल्टा सम्मान, बर्फीयालाल जुंवाठा सम्मान, राजेंद्र सिंह रावत सम्मान, पति दास सम्मान, से भी विभिन्न लोगों को सम्मानित किया जाएगा।

रंवाल्टी के प्रख्यात साहित्यकार महावीर रवांल्टा, साहित्यकार दिनेश रावत, वरिष्ठ पत्रकार और लोकसंस्कृति कर्मी प्रदीप रावत, साहित्यकार और पत्रकार प्रेम पंचोली, शशीमोहन रवाल्टा, युवा उद्यमी नरेश नौटियाल सहित पूरी यमुना, गंगा घाटी के संस्कृति प्रेमी और लोग, रंवाई लोक महोत्सव को सफल बनाने के लिए हर मुमकिन कोशिश कर रहें हैं।

वास्तव में रंवाई लोक महोत्सव आने वाले दिनों में लोकसंस्कृति के संरक्षण और संवर्धन में मील का पत्थर साबित होगा। ऐसे आयोजन से न केवल लोक मजबूत होगा अपितु युवा पीढ़ी भी अपनी जड़ों से जुड़ी रहेगी। इस आयोजन के लिए पूरी टीम को ढेरों बधाईया। अगर आप भी लोकसंस्कृति को करीब से देखना चाहते हैं तो चले आइये यमुना घाटी के नौंगाव 23-25 नवम्बर तक रंवाई लोकमहोत्सव में ……

NO COMMENTS