उत्तराखंडः डॉ इन्दिरा हृदयेश बनीं नेता प्रतिपक्ष

0
298

उत्तराखंड में सत्ता से बाहर हुई कांग्रेस ने डॉ इन्दिरा हृदयेश को नेता प्रतिपक्ष की जिम्मेदारी दे दी है। राज्य विधानसभा में मात्र 11 विधायकों वाली कांग्रेस में नेता प्रतिपक्ष को लेकर भी गुटबाजी की खबरें आ रही थी। केन्द्रीय नेताओं की मौजूदगी में देहरादून में हुई बैठक में हृदयेश को इस जिम्मेदारी के लिए चुना गया। हाईकमान के दखल के बाद राष्ट्रीय महामंत्री और प्रदेश प्रभारी अंबिका सोनी ने नेता प्रतिपक्ष के नाम की घोषणा की। कांग्रेस विधानमंडल दल की नेता के रूप में कांग्रेस की वरिष्ठतम विधायक डॉ. इंदिरा हृदयेश के नाम पर सहमति बनीं। वहीं, रानीखेत के विधायक करन माहरा को उप नेता विधानमंडल दल चुना गया। मुख्य सचेतक भगवानपुर विधायक ममता राकेश होंगी। उत्तराखंड विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को इस बार करारी शिकस्त का सामना करना पड़ा। 11 मार्च को परिणाम आने के बाद से ही नेता प्रतिपक्ष के नाम को लेकर जारी मंथन पर आखिर रविवार को विराम लगा। कांग्रेस प्रदेश प्रभारी अंबिका सोनी और सांसद शैलजा कुमारी की मौजूदगी में हुई विधायक दल की बैठक में हाईकमान के दखल के बाद नेता प्रतिपक्ष के नाम पर मुहर लगी। रविवार दोपहर पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत प्रदेश प्रभारी अंबिका सोनी, प्रदेश चुनाव प्रभारी शैलजा कुमारी प्रदेश कांग्रेस मुख्यालय पहुंची। कांग्रेस प्रदेश मुख्यालय में विधायकों, प्रदेश अध्यक्ष और अन्य पदाधिकारियों के साथ करीब एक घंटा चली बैठक के बाद भी नेता प्रतिपक्ष के नाम को लेकर कोई फैसला नहीं हो पाया। इस बीच कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय और पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने बैठक से निकलकर मीडिया के साथ बातचीत की।  उन्होंने बताया कि सभी 11 विधायकों ने नेता प्रतिपक्ष के नाम पर हाईकमान के फैसले का सम्मान करने पर सहमति दी है। प्रदेश प्रभारी हाईकमान से बात करने के बाद नाम की घोषणा करेंगी। इसके बाद पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत कांग्र्रेस भवन से निकल गए। करीब आधा घंटा बाद प्रदेश प्रभारी अंबिका सोनी ने बैठक में नेता प्रतिपक्ष, उप नेता और मुख्य सचेतक के नामों की घोषणा की। इसके बाद प्रदेश अध्यक्ष किशोर उपाध्याय ने कहा कि इंदिरा हृदयेश पार्टी की वरिष्ठ नेता हैं और उनके अनुभव का लाभ सदन में मिलेगा। वे जनहित में मजबूत विपक्ष का आधार बनेंगी।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY